Tuesday, March 12, 2013

जीवन ही वही है

ज़िन्दगी में जाने अन्जाने में किसी का किसी पर उधार हो ही जाता है। तो फिर क्यों न इस ज़िन्दगी के हर पहलू को जी भर कर जिया जायें। क्यों न ज़िन्दगी का कोई सार्थक दर्शन तलाशा जाये। जिसकी पनाह में हम अपने से जुड़े पहलूओं से टकरा सकें। हर किसी में ये सहास नहीं होता। बहुत से वक़्त के जरा करवट लेने से ही अपने कदम पीछे कर लेते हैं। उनके होने की किसी आहट तक किसी को नहीं होती है। मगर पीली धूप में जो जलता है वो सोने की तरह निखरता है। उसकी आहटों पर वक़्त के भी निर्णय के मोड़ पर आ जाते हैं।


रिश्ता तो सिर्फ पहचान है। आदमी के जीवन में किसी का दामन पकड़े रहने का। जिससे की कोई उद्देश्य मान कर वो अपनी भूख का खूद ही निवाला बनता रहे और उसे जरा भी महसूस न हो पाये की वो धीरे-धीरे मकड़ी के जाल में फंस रहा है। किसी न किसी दिन वो अपने शरीर का प्रतिनिधित्व छोड़ देगा। ये तत्व रूपी दुनिया में फिर कोई न फर्क
होगा।

सब एक-दूसरे को निष्ठावान होकर देखेगें। क्या ऐसी कोई दुनिया है जिसको हम परिभाषित कर सकें? जिसमें इंसान का धर्म उसका मसीहा न हो। मसीहा देखना हो तो अपने जैसे किसी शख़्स को बैठाकर उससे दो बातें करने में ही मसीहा का दर्शन मिल जाये। जिसे देखने के लिये आँखों की जरूरत ही नही। आँखे तो जगह में समझ कर चलने के लिये है। सही - गलत और किसी का होना न होने को भापनें के लिये है। जो हर कण और हर जगह उजागर होकर सब में मिला है। उसे खोजने या समझने की जरूरत क्या है?

जीवन ही वही है। वो कब आता है कब जाता है कब सुनता है। कब नहीं सुनता है। ये सब माया है उसकी जो आप में है जिसका आप के मन में एक दीपक जल रहा है। अगर कुछ करना है तो उस जलते दीपक को तलाशों और उसे अपने अन्दर बूझने से बचाओ। बाहर का तूफान अपने आप शान्त हो जायेगा।

राकेश

1 comment:

tarun_kt said...

अगर कुछ करना है तो उस जलते दीपक को तलाशों और उसे अपने अन्दर बूझने से बचाओ। बाहर का तूफान अपने आप शान्त हो जायेगा।

Rakesh Ji bahut bahut sadhuwad !