Friday, December 12, 2008

खिच़ड़ी मतदान

वाह रे मतदान! वाह रे मतदान!

जहाँ-तहाँ खींचनी पड़ती जनता की टांग और बनी मिली-जुली सरकार का बनाकर।
जो चबायें पान- वही संभाले लोगों की कमान।
वाह रे मतदान! वाह रे मतदान!

समाज का चुनाव बना महत्वपूर्ण।
काम नेताओ की सिर्फ़ चलती ज़ूबान,
अरे क्या फ़ायदा देकर मतदान।
उल्टा पड़ता हर परिणाम।
वाह रे मतदान! वाह रे मतदान!

सत्ताधारी पार्टियों की ऊँची शान।
नहीं मिलता किसी अपना मान।
भटका यहाँ इमान- फिर भी सब कहे जय हो मतदान। जय हो मतदान।
वाह रे मतदान! वाह रे मतदान!

गाँव-शहर मे बजे ढ़ंका।
जिसका हर शख़्स करता जिसपर उरमान।
चाहें वो हिंन्दू हो या मुस्लमान।
हर हाल में करता है मतदान।
तेरी जय-जयकार हो मतदान।
वाह रे मतदान! वाह रे मतदान!

जीत-हार का मज़ा यही है।
सत्य - असत्य की होती पहचान।
खेल बदलता रहता है। नहीं बदलते मैदान।
तुझको मेरा सत-सत प्रणाम!
वाह रे मतदान! वाह रे मतदान!

हाथ इशारा करके बुलाता।
कमल मुस्कुरा के लुभाता।
भ्रम में पड़े लोग झुँजलाते।
किस को बनाये अपना अभिमान।
भूल गए ज़िन्दगी का मधूर गान।
वाह रे मतदान! वाह रे मतदान!

महाकुंभ लोगों से भरा है।
पाप-पून्य का सट्टा लगा है।
अनूरूप उसके होगा परिणाम।
जो जनता मे लायेगा जान
वाह रे मतदान! वहा रे मतदान!

राकेश

13 comments:

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

जीत-हार का मज़ा यही है।
सत्य - असत्य की होती पहचान।
खेल बदलता रहता है। नहीं बदलते मैदान।
तुझको मेरा सत-सत प्रणाम!
वाह रे मतदान! वाह रे मतदान!

बहुत खूब.

ई-गुरु राजीव said...

हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

शुभकामनाएं !


ब्लॉग्स पण्डित - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

ई-गुरु राजीव said...

आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ 'ब्लॉग्स पण्डित' पर.
यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

अक्षय-मन said...

rakesh ji bahut umda likha hai jitna kahuin utna kam....

प्रकाश गोविन्द said...

किस को बनाये अपना अभिमान।
भूल गए ज़िन्दगी का मधूर गान।
वाह रे मतदान! वाह रे मतदान!


क्या बात है !
बहुत खूब !

अपने अच्छी तस्वीर खींची है लोकतंत्र की !

मेरी शुभ कामनाएं !

रचना गौड़ ’भारती’ said...

कलम से जोड्कर भाव अपने
ये कौनसा समंदर बनाया है
बूंद-बूंद की अभिव्यक्ति ने
सुंदर रचना संसार बनाया है
भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
www.zindagilive08.blogspot.com
आर्ट के लि‌ए देखें
www.chitrasansar.blogspot.com

विवेक said...

एक शहर है...नाम अच्छा है

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर ...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

Hindustani said...

सच कहा है
बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
टेम्पलेट अच्छा चुना है
कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें
कृपया मेरा भी ब्लाग देखे और टिप्पणी दे
http://www.ucohindi.co.nr

प्रवीण त्रिवेदी...प्राइमरी का मास्टर said...

हा,,,,हा,,,हा,
बढ़िया आईडिया दिया आपने पाठकों को !

हिन्दी ब्लॉग जगत में प्रवेश करने पर आप बधाई के पात्र हैं / आशा है की आप किसी न किसी रूप में मातृभाषा हिन्दी की श्री-वृद्धि में अपना योगदान करते रहेंगे!!!


प्राइमरी का मास्टर का पीछा करें

Suresh Chiplunkar said...

हिन्दी ब्लॉग जगत में आपका हार्दिक स्वागत है, मेरी शुभकामनायें… एक अर्ज है कि कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें, ताकि टिप्पणी करने में कोई बाधा न हो… धन्यवाद।

HEY PRABHU YEH TERA PATH said...

महाकुंभ लोगों से भरा है।
पाप-पून्य का सट्टा लगा है।
अनूरूप उसके होगा परिणाम।
जो जनता मे लायेगा जान
वाह रे मतदान! वहा रे मतदान!
बहुत ही अच्छी व्यगात्मक कविता। पढकर मजा आ गया। मेरी तरफ से शुभकामना।

मेरे ब्लिग पर अवश्य पधारे। जय हिन्द॥।

Ek Shehr Hai said...

दोस्तों आप का एक शहर है ब्लॉग पर स्वागत है।
काफी वक़्त गुज़र जाने के बाद मैं आप लोगों से मिल रहा हूँ।

इन दिनों दिल्ली की एक बस्ती जिसका नाम एल.एन.जे.पी है। यहाँ पर सर्वे चल रहे हैं शायद दो-तीन महिने का सफ़र और बाकी है। हम उसके हर पल में शामिल है और को भी इस सफ़र में शामिल होने का न्यौता देते हैं।